छग लघु वेतन शास चतुर्थ वर्ग कर्मचारी संघ बैनर तले 07 सूत्रीय मांगों को लेकर कामधेनु विश्वविद्यालय अंजोरा के कुलसचिव को ज्ञापन सौप अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर बैठे

  • 25-November-2022

अंजोरा ,दुर्ग न्यूज़ / छत्तीसगढ़ लघु वेतन शासकीय चतुर्थ वर्ग कर्मचारी संघ के बैनर तले दाऊ श्री वासुदेव चंद्राकर कामधेनु विश्वविद्यालय अंजोरा, दुर्ग के कुलसचिव को सात सूत्रीय मांगों के संबंध में ज्ञापन सौप अनिश्चितकालीन कामबंद एवं हड़ताल तथा 24 नवम्बर 2022 से अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर बैठे। 


छत्तीसगढ़ लघु वेतन शासकीय चतुर्थ वर्ग कर्मचारी संघ ने बताया कि विश्वविद्यालय में कार्यरत 151 दैनिक वेतन भोगी कार्यरत है। जो कि 2013 से 2020 तक न्यूनतम वेतन से कम वेतन प्रदान किया गया है, जो कि छत्तीसगढ़ शासन न्यूनतम वेतन अधिनियम का उल्लंघन है। इस संबंध में सहायक श्रम आयुक्त एवं मुख्यमंत्री निवास द्वारा वेतन कटौती को नियम विरूद्ध मानते हुए वेतन कटौती की सवा करोड़ की राशि वापस करने हेतु आदेशित किया गया है। 


इस संबंध में संघ के पत्र क्रमांक 183 DVB, DSVCKV 22 अक्टूबर 2021 के सूचनार्थ पर 01 नवम्बर 2021 को सात सूत्रीय मांगों के संबंध में कामबंद एवं हड़ताल किया गया था। जिसमें तत्कालीन जिलाधीश दुर्ग अनुभागीय अधिकारी दुर्ग के आदेशानुसार तहसीलदार प्रेरणा सिंह एवं पुलिस चौकी प्रभारी अंजोरा, कुलसचिव , निदेशक शिक्षण, वित्त अधिकारी की उपस्थिति में 03 नवम्बर 2021 को दैनिक वेतन भोगियों के प्रतिनिधियो के मध्य समझौता हुआ था। किन्तु उक्त समझौते के ऊपर दिनांक तक कोई कार्यवाही नही की गई। 



पत्र कमांक स्था.3 / 127/2021/1624 , 30 नवम्बर 2021 के द्वारा वेतन कटौती एरियर्स राशि भुगतान करने हेतु वित्त अधिकारी को पत्र जारी किया गया था एवं वित्त अधिकारी के द्वारा पत्र कमांक वि.अ./ 184/2021-22/862 दुर्ग, 12 नवम्बर 2021 को विश्वविद्यालय द्वारा संचालित समस्त महाविद्यालयों एवं केन्द्रों को एरियर्स की राशि का वित्तीय भार की जानकारी मांगी गई थी जो कि आज दिनांक तक आपको प्राप्त हो चुका है।

परन्तु एक वर्ष से अधिक समय व्यतीत हो जाने के बाद भी उक्त वेतन कटौती की राशि एरियर्स के रूप में भुगतान नहीं किया गया है एवं अन्य मांगो के संबंध में संतोषजनक कार्यवाही नही किया गया है। संघ ने आगे कहा कि यदि उक्त विषय पर 21 नवम्बर 2022 तक अगर कोई कार्यवाही आपके द्वारा नहीं किया गया , तो 22 नवम्बर 2022 से समस्त दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के द्वारा छत्तीसगढ़ लघु वेतन शास. चतुर्थ वर्ग कर्मचारी संघ, जिला शाखा-दुर्ग के बैनर तले अनिश्चितकालीन कामबंद हड़ताल एवं 24 नवम्बर 2022 से दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी दिनेश कुमार वर्मा के द्वारा आमरण अनशन किया गया।

संघ ने कहा कि अनिश्चिकालीन कामबंद हड़ताल एवं आमरण अनशन से किसी भी प्रकार की विपरीत परिस्थिति उत्पन्न होती है तो इसकी संपूर्ण जवाबदारी विश्वविद्यालय प्रशासन की होगी। 


सात सूत्रीय मांग निम्नलिखित है : -

1. वेतन कटौती की राशि वापस प्रदान करना।
2. कार्य के अनुसार वर्गीकरण करके दर प्रदान किया जाये।
3. सभी दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) की कटौती किया जाये।
4. सभी दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को मासिक का आदेश निकाल कर 15 दिनो का EL एवं 13 दिनों का CL प्रदान किया जाये।
5. अर्द्धकुशल की अवधि को 08 वर्ष की जगह 03 वर्ष करके वेतन प्रदान किया जाये।
6. विश्वविद्यालय में कार्यरत 10 वर्ष एवं 10 वर्ष से अधिक कार्यरत दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को कार्य परिषद में प्रस्ताव पारित कर नियमितिकरण की कार्यवाही शुरू की जाये।
7. हड़ताल अवधि का पूर्ण वेतन प्रदान किया जाये।


Related Articles

Comments
  • No Comments...

Leave a Comment