बीएसपी की टीम, कोविड के मरीजों के जीवन बचाने में कर रही है संजीवनी का कार्य ... आ‌‌क्सीजन आपूर्ति हर हाल, राष्ट्रसेवा की बनी मिसाल

  • 06-May-2021

भिलाई न्यूज़।  राष्ट्र सेवा का ऐसा जज्बा, दिन रात काम करने का ऐसा जुनून, सिर्फ सेना में ही देखने को मिलता है परंतु हमने समर्पण व साहस का, यह नजारा देखा, सेल भिलाई इस्पात संयंत्र के ऑक्सीजन प्लांट में। जहां ऑक्सीजन आपूर्ति में लगे कार्मिक भी सैनिकों जैसे जोश व जज्बे से भरे हुए हैं मुश्किल की इस घड़ी में, सांसों के ये सिपाही, घड़ी देखना भूल गए हैं। 


सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र की टीम, कोविड के मरीजों के जीवन बचाने में संजीवनी का कार्य कर रही है। मेडिकल ऑक्सीजन की निरन्तर आपूर्ति से जहां छत्तीसगढ़ के अस्पतालों में कोविड के गंभीर मरीजों का जीवन बचाया जा रहा है, वहीं छत्तीसगढ़ प्रदेश के साथ-साथ निर्देशित देश के विभिन्न प्रदेशों को विशेषकर महाराष्ट्र व मध्यप्रदेश हेतु भी लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। आज देश की एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक इकाई सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र ने देश के जीवन बचाने की मुहिम में अहम भूमिका निभाई है। आज हमने बीएसपी के ऑक्सीजन प्लांट में दिन-रात काम करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों से बातचीत की। उनकी भावनाओं को जानने का प्रयास किया। 


जान बचाने का सुकून है हमें - 

इसी क्रम में ऑक्सीजन प्लांट में कार्यरत प्रकाश कुमार कहते है कि हमें दिन-रात काम करने में थकान नहीं होती। हमें यह गर्व है कि हमारे काम से आज देश में लोगों की जान बचाई जा रही है। आज हमारे टीम के सदस्य योगेश्वर, मोनु कुमार, लखन, पापाराव, अनिल और हमारे अन्य सदस्य पूरे समर्पण से अपना कार्य कर रहे है।

ऑक्सीजन आपूर्ति देश सेवा है -

इसी प्लांट में काम करने वाले हिरेन्द्र चौहान कहते है कि हम बिना वीकली आॅफ लिये काम कर रहे है। संकट के समय आज मेडिकल ऑक्सीजन की निरन्तर आपूर्ति सुनिश्चित करना, एक राष्ट्रसेवा है।

जीवन रक्षा पुण्य कार्य है -

इसी टीम के एक और समर्पित सदस्य ट्राली ड्राइवर रोहित वर्मा बताते है कि आज हम लोग सब निरन्तर मेहनत कर रहे है। अगर हमारे मेहनत से किसी की जान बच जाये तो इससे बड़ा पुण्य कार्य कुछ नहीं है।

समय पर आपूर्ति हमारा फोकस -

मोहन राव कहते है कि इस वक्त जहां हम अपने खाने-पीने की चिंता छोड़कर सिर्फ मेडिकल ऑक्सीजन के सप्लाई को बनाये रखने में पूरा ध्यान लगा रहे है, वहीं बीएसपी प्रबंधन ने भी प्रतिदिन हमारे नाश्ते से लेकर खाने-पीने की बेहतर व्यवस्था की है।

हर काम देश के नाम -

ऑक्सीजन प्लांट के वरिष्ठ व कर्मठ कार्मिक एस बी सिंह कहते है कि आज हम अपने देश के काम आ रहे है। जिस प्रकार सैनिक अपने देश की रक्षा के लिए तत्पर होता है वैसी ही भावना आज हमारे टीम में है। हर काम देश के नाम।

उपलब्धता बढ़ाने हेतु इनोवेटिव प्रयास -

ऑक्सीजन प्लांट के डीएसओ एम डी साहू ने बताया कि उनकी टीम ने ऑक्सीजन उत्पादन बढ़ाने के लिए अनेक उपाय किये है। ऑक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता को भी बढ़ाने का प्रयास किया गया है। इस हेतु 150 टेक्निकल सिलेंडर्स को मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर्स में कन्वर्ट किया गया है। इस प्रकार सेक्टर- 9 अस्पताल हेतु दिए जाने वाले 450 मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर्स के स्थान पर अब हम 600 सिलेंडर्स देने में सक्षम हो सके है।

जज्बा और जुनून को सलाम -

ऑक्सीजन प्लांट के महाप्रबंधक मोहम्मद नदीम खान ने बताया कि सीजीएम श्री जी ए सोरते के मार्गदर्शन में ऑक्सीजन प्लांट की टीम देश को बचाने के लिए कमर कस ली है। हम अपने संयंत्र को चैबीसों घंटे पूरी क्षमता से चला रहे है। हमारी टीम ने घड़ी देखना बंद कर दिया है। उनमें देश के लिए कुछ करने का जज्बा और जुनून दिखाई देता है। आज मेडिकल ऑक्सीजन की बढ़ती मांगों को इनके जज्बे से ही पूर्ण कर रहे है। अप्रेल माह में हमने जहां बीएसपी के जेएलएन अस्पताल को 5845 मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर की है वहीं जिला प्रशासन को शासकीय अस्पतालों हेतु इसी माह 1550 मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर की निःशुल्क आपूर्ति की है।

सांसों को सहेज रहे है हम -

ऑक्सीजन प्लांट के महाप्रबंधक पूर्णचंद्र बाग बताते है कि आज आॅक्सीजन प्लांट को पूरे क्षमता के साथ चलाने में हमारे ऑपरेशन के साथियों के साथ-साथ इलेक्ट्रिकल व मेकेनिकल मेंटेनेंस की टीम ने भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इसके साथ ही मेडिकल ऑक्सीजन आपूर्ति की गति को बढ़ाने हेतु बीएसपी के निदेशक प्रभारी अनिर्बान दासगुप्ता ने भी हमारे ऑक्सीजन प्लांट का दौरा किया और हमारी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तत्काल बैटरी ऑपरेटेड ट्राली की व्यवस्था की। जिससे ऑक्सीजन सिलेंडर्स को फीलिंग प्वाइंट तक तथा लोडिंग प्वाइंट तक शीघ्र परिवहन किया जा सके। आज हम सिर्फ ऑक्सीजन ही नहीं बांट रहे, बल्कि जीवन बचाने वाली सांसे बांट रहे हैं।


Related Articles

Comments
  • No Comments...

Leave a Comment