भिलाई : सप्त दिवसीय जीवन विज्ञान शिक्षक-प्रशिक्षण शिविर का वर्धापन समारोह स्थानीय पोरवाल प्रेक्षा भवन में हुआ सम्पन्न

  • 14-January-2021

भिलाई न्यूज़ । संभागीय संयुक्त संचालक, शिक्षा संभाग दुर्ग (छ.ग.) एवं अणुव्रत विश्व भारती सोसायटी, राजसमन्द (राजस्थान) के संयुक्त आयोजकत्व तथा पोरवाल चेरीटेबल ट्रस्ट, भिलाई द्वारा प्रायोजित सप्त दिवसीय जीवन विज्ञान शिक्षक-प्रशिक्षण शिविर का दिनांक 06 से 13 जनवरी, 2021 का वर्धापन समारोह स्थानीय पोरवाल प्रेक्षा भवन में हुआ। इस शिविर में दुर्ग, पाटन एवं धमधा शिक्षा विकासखण्ड से कुल 62 प्रशिक्षणार्थी ने भाग लेकर जीवन विज्ञान का सैद्धान्तिक एवं प्रायोगिक प्रशिक्षण प्राप्त किया।


इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रान्त संघचालक बिसरा राम यादव ने कहा कि शिक्षा और ज्ञान में अन्तर है। ज्ञान उपार्जन के द्वारा जीविकोपार्जन करना शिक्षा कहलाता है और विश्व के साथ स्वयं को जानना ज्ञान कहलाता है। आसन, प्राणायाम, ध्यान, अनुप्रेक्षा , कायोत्सर्ग, प्रेक्षाध्यान आदि आध्यात्मिक प्रयोगों से अपने शरीर को पवित्र का विश्व ज्ञान को धारण करना जीवन विज्ञान है।


उन्होंने उपस्थित शिक्षकों को प्रेरित करते हुए कहा कि प्राथमिक कक्षाओं के अध्यापक बन्धुओं-बहनों का व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास में बहुत बड़ा योगदान होता है। यह समय सम्पूर्ण शिक्षा के आधार को मजबूत बनाने का समय है।

कार्यक्रम में जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से उपस्थित सहायक संचालक अमित घोष एवं राजेश ओझा ने कहा कि जीवन विज्ञान के प्रायोगिक अभ्यास से सकारात्मक विचारों का उद्गम होता है। उन्होंने उपस्थित शिक्षकों को प्रेरित करते हुए कहा कि यहाँ प्राप्त ज्ञान को स्वयं के जीवन में धारण करते हुए विद्यार्थियों के माध्यम से समाज तक अवश्य पहुंचाये।

कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित अल्यसंख्यक आयोग, छत्तीसगढ़ के पूर्व अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह केम्बो, कृष्णा पब्लिक स्कूल के चेयरमेन आनन्द त्रिपाठी, वरिष्ठ समाज सेवी सुरेशचन्द बरडिय़ा ने भी संभागियों को संबोधित करते हुए अपना उद्बोधन दिया। 

आयोजित शिविर में सीखे गये प्रार्थना सभा के विभिन्न आसन, प्राणायाम, महाप्राण ध्वनि, कायोत्सर्ग, दीर्घश्वास पे्रक्षा, संकल्प-शक्ति, अणुव्रत गीत आदि सामुहिक प्रदर्शक कार्यक्रम का नेतृत्व एवं प्रायोगिक अभ्यास में प्रतिभागी शिक्षक मुकेश साहु, पूनम तिवारी, सुधा सोनी, ओमप्रकाश जंघेल एवं सुखनंदन यादव का सक्रिय सहयोग प्राप्त हुआ।

शिविर रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए शिविर के मुख्य प्रशिक्षक एवं अणुव्रत विश्व भारती सोसायटी के जीवन विज्ञान विभाग के सहायक निदेशक हनुमान मल शर्मा ने बताया कि शिविर का शुभारम्भ 6 जनवरी 2021 को दुर्ग शिक्षा संभाग के संयुक्त संचालक पी.के.पाण्डेय एवं सहायक संचालक सत्यनारायण स्वामी की उपस्थिति में हुआ। प्रशिक्षण के क्रम में जहाँ सर्व संचय जैन, अध्यक्ष अणुविभा, राजसमन्द, सुरेश कोठारी, सी.एम.डी. कोठारी ग्रुप्स ऑफ इंस्टीट्यूट, इन्दोर, सी.ए. राकेश खटेड़, चेन्नई एवं अणुव्रती कार्यकर्ता एवं वरिष्ठ समाज सेविका माला कातरेला, चेन्नै द्वारा ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षण प्रदान किया, वहीं दूसरी ओर स्थानीय सरस्वती शिशु मंदिर के अध्यापक कृतकुमार साहू, पूनम चौबे एवं पूनम तिवारी का सक्रिय सहयोग प्राप्त हुआ।

ऑनलाइन कक्षाओं के संचालन हेतु तकनीकि सहयोग मास्टर प्रत्यूश पोरवाल से प्राप्त हुआ। पोरवाल चेरीटेबल ट्रस्ट के मुख्य न्यासी दानमल पोरवाल ने आगन्तुक अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम का सफल संचालक अध्यापक त्रिलोकचन्द चौधरी ने तथा आभार ज्ञापन कीर्ति खोब्रागढ़े द्वारा किया गया। अन्त में राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।


Related Articles

Comments
  • No Comments...

Leave a Comment