राज्य शासन के नये निर्देशों के अनुरूप धान खरीदी करने के निर्देश पर कलेक्टर श्री मौर्य ने उपार्जन केन्द्रों के नोडल अधिकारियों की ली बैठक -- द नेक्स्ट न्यूज़

  • 18-December-2019

राजनांदगाव(छत्तीसगढ़)  ..कलेक्टर श्री जयप्रकाश मौर्य ने 16 दिसम्बर 2019 को जिले के सभी 117 धान उपार्जन केन्द्रों के नोडल अधिकारियों की बैठक लेकर राज्य शासन द्वारा धान खरीदी के संबंध में दिये गये नए दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए। श्री मौर्य ने बैठक में खरीदे गए धान की उचित तरीके से स्टेकिंग करने, बारदानों का भौतिक सत्यापन करने तथा गुणवत्तापूर्ण धान की खरीदी करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। श्री मौर्य ने बे-मौसम बारिस के हालात में खरीदे गए धान की सुरक्षा के लिए व्यापक प्रबंध कराने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए। बैठक में जिला खाद्य अधिकारी श्री. किशोर कुमार सोमावार, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के सीईओ श्री. सुनील वर्मा, जिला विपणन अधिकारी श्री. सौरभ भारद्वाज, प्रभारी नॉन श्री. पैकरा सहित खाद्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर श्री मौर्य ने बैठक में नोडल अधिकारियों से कहा कि धान उपार्जन केन्द्रों में बारदाना पंजी, धान खरीदी पंजी, मिलर्स को भेजे गए धान की पंजी. अनिवार्य रूप से संधारित की जाए। भरे बारदानों की स्टेकिंग निर्धारित प्रक्रिया के अनुरूप किया जाना चाहिए। श्री मौर्य ने नोडल अधिकारियों को धान खरीदी, स्टेकिंग आदि की प्रक्रिया के संबंध में स्पष्ट रूप से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि धान उठाव की पंजी. नियमित रूप से अपग्रेड होना चाहिए। धान की सुरक्षा के लिए स्टेकिंग में नीचे रखे जाने वाले बारदानों में भूसे का भराव पर्याप्त मात्रा में किया जाए। कैप कव्हर की पूरी व्यवस्था की जाए। श्री मौर्य ने कहा कि सभी पात्र किसानों से प्रति एकड़ अधिकतम 15 किवंटल धान की खरीदी की जाएगी। धान खरीदी की प्रक्रिया 15 फरवरी तक चलेगी। रबी मौसम का धान बेचने की शिकायत मिलने पर संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई होगी। धान खरीदी के लिए 60 प्रतिशत नये बारदाने तथा 40 प्रतिशत पुराने बारदानों का उपयोग किया जाना है। स्टॉक पंजी. सही तरीके से भरा जाना चाहिए। नोडल अधिकारी पूरी धान खरीदी व्यवस्था, बारदानों की स्टेकिंग और सुरक्षा पर कड़ी निगाह रखें। 
25 लाख 25 हजार किवंटल  से अधिक धान की हो गई खरीदी-
अधिकारियों ने बताया कि जिले में अभी तक 25 लाख 25 हजार किवंटल से अधिक धान की खरीदी हो चुकी हैं। जिन उपार्जन केन्द्रों में बफर लिमिट से अधिक मात्रा में धान का जमाव हो गया था वहां से परिवहन कार्य भी प्रारंभ कर दिया गया है। मिलर्स उपार्जन केन्द्रों से ही धान का उठाव कर रहे हैं। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक द्वारा 22 हजार 314 किसानों को 112 करोड़ रूपए का धान खरीदी का भुगतान भी किया जा चुका है।

 


Related Articles

Comments
  • No Comments...

Leave a Comment